Home News Moscow Terrorist Attack : क्‍या है इस्लामिक स्टेट ISIS-K, जिसने रूस में...

Moscow Terrorist Attack : क्‍या है इस्लामिक स्टेट ISIS-K, जिसने रूस में किया बड़ा आतंकी हमला

6
0
Moscow Terrorist Attack

Moscow Terrorist Attack : विशाल देश रुस पर आंतकवादी हमला हुआ है। दरअसल, शुक्रवार रात आंतकवादी हमला रूस की राजधानी मास्को में किया गया जिसके कई लोगों की मौत हो गई है। रिपोर्ट्स की मानें तो चार से पांच अज्ञात बंदूकधारियों ने शहर के व्यस्त क्राकस सिटी कंसर्ट हाल में घुसकर अंधाधुंध फायरिंग कर दी। हमला काफी देर तक चला जिससे कई लोगों की जान जा चुकी है। बताया जा रहा है कि हमले में कम से कम 100 लोगों की मौत हो गई और 145 से अधिक लोगों के घायल हो गए है। आने वाले घंटो में ये आंकड़े बढ़ने वाले हैं। वहीं, इस हमले की जिम्मेदारी कुख्यात आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (IS) ने ली है।

रुस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने इस्लामिक स्टेट को दी चेतावनी

रुस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि आंतकियों को नहीं छोड़ेंगे। आने वाले दिनों में उन्हें भारी नुकसान सहना होगा। खबरों के मुताबिक अमेरिका ने Moscow Terrorist Attack घटना के बारे में रुस को जानकारी दी थी। दरअसल रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिका की खुफिया एजेंसी ने हाल ही में एक चेतावनी जारी की थी जिसमें कहा गया था कि आने वाले दिनों में आईएस के आतंकवादी रूस पर हमला कर सकते हैं। व्हाइट हाउस के मुताबिक, इसे लेकर उसने जिम्मेदारी निभाते हुए अपने नागरिकों और रूस के अधिकारियों को चेतावनी जारी की थी। हालांकि इसके बावजूद भी रुस अपने नागरिकों को नहीं बचा पाया।

Moscow Terrorist Attack
Moscow Terrorist Attack

खुंखार आंतकी समूह ISIS ने Moscow Terrorist Attack की जिम्मेदारी

इस हमले की जिम्मेदारी खुंखार आंतकी समूह ISIS ने ली है। अमेरिकी खुफिया जानकारी के अनुसार, इस्लामिक स्टेट और खास तौर से इसकी अफगान शाखा, जिसे खुरासान मॉड्यूल या ISIS-K के नाम से जाना जाता है, उसने ली है। इस्लामिक स्टेट खुरासान (ISIS-K), जिसका नाम ईरान, तुर्कमेनिस्तान और अफगानिस्तान के कुछ हिस्से वाले क्षेत्र के पुराने शब्द पर रखा गया है। Moscow Terrorist Attack से पहले भी कई घटनाओं का अंजाम दे चुका है।

पहले भी ISIS दे चुका है इस तरह के घटनाओं को अंजाम

आईएस-खुरासान ने अफगानिस्तान में काफी कोहराम मचाया है। 2021 में जब अमेरिका ने अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद अपने सैनिकों को निकालने का फैसला किया, तब काबुल एयरपोर्ट के बाहर दो आत्मघाती हमले हुए थे। इन हमलों में अमेरिकी मरीन कमांडो समेत कम से कम 60 लोगों की मौत हुई थी। पांच अमेरिकी सैनिकों समेत 100 से ज्यादा लोगों के घायल हुए थे।

ये भी पढ़ें : 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here